Physics Chapter 10 ( तरंग प्रकाशिकी ) Objective Question Hindi

Whatsapp Group
youtube

विधुत-चुम्बकीय तरंग को ध्रुवित किया जा सकता है

(A) लेंस द्वारा
(B) दर्पण द्वारा
(C) पोलैरॉइड
(D) प्रिज्म द्वारा

show answer
(C) पोलैरॉइड

 

यंग के द्वि-छिद्र प्रयोग में रचनात्मक व्यतिकरण उत्पन्न करने वाले दो तरंगों के बीच पथान्तर का मान नहीं होता है

(A) nλ
(B) (n + 1/2)λ
(C) (2n + 1)λ
(D) (2n + 1)λ/2

show answer
(A) nλ

 

प्रकाश किरणों के तीखे कोट पर मुड़ने की घटना को कहते हैं :

(A) अपवर्तन
(B) विवर्तन
(C) व्यतिकरण
(D) ध्रुवण

show answer
(B) विवर्तन

 

यदि व्यतिकरण करते हुए दो तरंगों के आयाम का अनुपात 4 : 3 हो तो महत्तम और न्यूनतम तीव्रताओं का अनुपात होगा :

(A) 16 : 9
(B) 9 : 16
(C) 49 : 1
(D) 1 : 49

show answer
(C) 49 : 1

 

निम्नलिखित में किसे प्रकाश के तरंग-सिद्धांत से नहीं समझा जा सकता है ?

(A) परावर्तन
(B) अपवर्तन
(C) विवर्तन
(D) प्रकाश-विधुत प्रभाव

show answer
(D) प्रकाश-विधुत प्रभाव

 

एक ऐसी परिघटना जो यह प्रदर्शित करती है कि कोई तरंग अनुप्रस्थ है, वह है:

(A) प्रकीर्णन
(B) विवर्तन
(C) व्यतिकरण
(D) ध्रुवण

show answer
(D) ध्रुवण

 

यंग के द्वि-स्लिट प्रयोग में अधिकतम तीव्रता ‘I0‘ है। यदि एक स्लिट को बंद कर दिया जाय, तब तीव्रता होती हैः

(A) I0
(B) I0/4
(C) I0/3
(D) I0/2

show answer
(B) I0/4

 

माध्यम का अपवर्तनांक (μ) तरंगदैर्घ्य (λ) से संबंधित है –

(A) μ ∝ λ
(B) μ ∝ μ 1/λ
(C) μ ∝ λ2
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(D) इनमें से कोई नहीं

 

इन्द्रधनुष प्राकृतिक उदाहरण है

(A) अपवर्तन का
(B) परावर्तन का
(C) अपवर्तन, परावर्तन एवं वर्ण विक्षेपण
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(C) अपवर्तन, परावर्तन एवं वर्ण विक्षेपण

 

एक द्विछिद्र प्रयोग में प्रकाश की जगह इलेक्ट्रॉन पुंज का प्रयोग किया गया। इलेक्ट्रॉन की संख्या का ग्राफ पर्दे पर निरूपित करता है

(A) एक द्विछिद्र प्रयोग में प्रकाश की जगह इलेक्ट्रॉन पुंज का प्रयोग किया गया।
(B) एक द्विछिद्र प्रयोग में प्रकाश की जगह इलेक्ट्रॉन पुंज का प्रयोग किया गया।
(C) एक द्विछिद्र प्रयोग में प्रकाश की जगह इलेक्ट्रॉन पुंज का प्रयोग किया गया।
(D) इनमें से कोई नहीं

 

show answer
 (A) एक द्विछिद्र प्रयोग में प्रकाश की जगह इलेक्ट्रॉन पुंज का प्रयोग किया गया।

 

विधुत चुम्बकीय तरंग का ध्रुवण किया जा सकता है –

(A) लेंस द्वारा
(B) दर्पण द्वारा
(C) पोलैरॉइड द्वारा
(D) प्रिज्म द्वारा

show answer
(C) पोलैरॉइड द्वारा

 

जब प्रकाश की एक किरण ग्लास स्लैब में प्रवेश करती है, तो इसका तरंगदैर्घ्य

(A) घटता है
(B) बढ़ता है
(C) अपरिवर्तित रहता है
(D) आँकड़े पूर्ण नहीं हैं

show answer
(D) आँकड़े पूर्ण नहीं हैं

 

n अपवर्तनांक वाले शीशे की पट्टी में पथ की लंबाई t का समतुल्यांक निर्वात में ……….. पथ की लंबाई है।

(A) (n – 1)t
(B) nt
(C) (n / t -1)
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(B) nt

 

मृगमरीचिका का कारण है –

(A) अपवर्तन और पूर्ण आंतरिक परावर्तन
(B) विवर्तन
(C) प्रकीर्णन
(D) व्यतिकरण

show answer
(A) अपवर्तन और पूर्ण आंतरिक परावर्तन

 

आसमान का रंग नीला दिखने का कारण है –

(A) प्रकीर्णन
(B) व्यतिकरण
(C) ध्रुवण
(D) विवर्तन

show answer
(A) प्रकीर्णन

 

सौर प्रकाश में उपस्थित काली रेखाओं को कहा जाता है –

(A) फ्रॉन हॉफर रेखाएँ
(B) टेल्यूरिक रेखाएँ
(C) दोनों
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(A) फ्रॉन हॉफर रेखाएँ

 

शुद्ध स्पेक्ट्रम प्राप्त किया जाता है –

(A) सूक्ष्मदर्शी से
(B) स्फेरोमीटर से
(C) स्पेक्ट्रोमीटर से
(D) प्रिज्म से

show answer
(C) स्पेक्ट्रोमीटर से

 

सौर स्पेक्ट्रम में बैंगनी रंग से लाल रंग की ओर –

(A) विचलन घटता है और अपवर्तनांक भी घटता है
(B) विचलन घटता है और अपवर्तनांक बढ़ता है
(C) विचलन बढ़ता है और अपवर्तनांक भी बढ़ता है
(D) विचलन बढ़ता है और अपवर्तनांक कम होता है

 

show answer
(A) विचलन घटता है और अपवर्तनांक भी घटता है

 

श्वेत प्रकाश का स्पेक्ट्रम प्रिज्म से प्राप्त करने में न्यूनतम विचलन होता है –

(A) पीले
(B) लाल
(C) नीले
(D) बैंगनी रंग के प्रकाश के लिए

show answer
(B) लाल

 

दृश्य स्पेक्ट्रम के रंगों में अधिक तरंगदैर्घ्य होता है –

(A) लाल
(B) पीला
(C) आसमानी
(D) बैंगनी

show answer
(A) लाल

सूर्य के प्रकाश का स्पेक्ट्रम है –

(A) संतत
(B) रेखिल स्पेक्ट्रम
(C) काली रेखा का स्पेक्टम
(D) काली पट्टी का स्पेक्ट्रम

show answer
(A) संतत

 

सतत स्पेक्ट्रम किससे पाया जाता है ?

(A) गर्म ठोस से
(B) गर्म गैस से
(C) विसर्जन नली से
(D) सोडियम वाष्प लैंप से

show answer
(A) गर्म ठोस से

रेखिल स्पेक्ट्रम मिलता है इन्हें उत्सर्जित करने पर –

(A) परमाणुओं को
(B) अणुओं को
(C) ठोस को
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(A) परमाणुओं को

 

बैण्ड स्पेक्ट्रम मिलता है

(A) परमाणुओं से
(B) अणुओं से
(C) ठोस से
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(B) अणुओं से

 

किसी प्रिज्म की विक्षेपण-क्षमता होती है –

(A) धनात्मक
(B) ऋणात्मक
(C) दोनों (A) और (B)
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(A) धनात्मक

 

जब लाल शर्ट पर हरा प्रकाश डालेंगे तो वह दिखाई देगा –

(A) काला
(B) पीला
(C) हरा
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(A) काला

 

जब दो प्रकाश-तरंगें व्यतिकरण करती हैं तो कुछ बिन्दुओं पर अंधेरा हो जाता है तो उस बिन्दुओं की प्रकाश ऊर्जा कहाँ चली जाती है ?

(A) ऊष्मा में बदल जाती है ।
(B) प्रकाश-ऊर्जा का पुनर्वितरण हो जाता है
(C) प्रकाश का विधुत में रूपांतरण हो जाता है
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(B) प्रकाश-ऊर्जा का पुनर्वितरण हो जाता है

 

जब प्रकाश का अपवर्तन होता है तो निम्नलिखित में से कौन परिवर्तित नहीं होती ?

(A) तरंगदैर्घ्य
(B) आवृत्ति
(C) चाल
(D) आयाम

show answer
(B) आवृत्ति

उत्सर्जन रेखीय स्पेक्ट्रम प्राप्त होता है

(A) सोडियम वाष्प लैंप से
(B) सूर्य के प्रकाश से
(C) विधुत्-लैंप से
(D) मोमबती से

show answer
(A) सोडियम वाष्प लैंप से

 

“एक वस्तु निम्न ताप पर उस प्रकाश को अवशोषित करती है जो वह तापदीप्त अवस्था में उत्सर्जित करती है।” इस नियम को प्रतिपादित किया गया है –

(A) न्यूटन द्वारा
(B) किर्कहॉफ द्वारा
(C) फ्रॉनहॉफर द्वारा
(D) फैराडे द्वारा

show answer
(B) किर्कहॉफ द्वारा

 

प्रकाश के अनुप्रस्थ तरंग प्रकृति की पुष्टि करता है –

(A) व्यतिकरण
(B) परावर्तन
(C) ध्रुवण
(D) वर्ण विक्षेपण

show answer
(C) ध्रुवण

 

अज्ञात आकारवाले एक सुदूर स्थित स्रोत से आनेवाले प्रकाश का तरंगाग्र होगा लगभग

(A) समतल
(B) दीर्घ वृत्तीय
(C) बेलनाकार
(D) गोलीय

show answer
(A) समतल

 

यदि प्रकाश का तरंगदैर्घ्य λ,दो कलाबद्ध स्रोतों के बीच की दूरी d तथा पर्दा एवं स्रोत के बीच की दुरी D हो, तो व्यतिकरण फ्रिजों की चौडाई निम्नलिखित सबध से दी जाती है

(A) λ/Dd
(B) d/λD
(C) λD/d
(D) λd /D

show answer
(C) λD/d

 

यंग के दो रेखा-छिद्रों वाले प्रयोग में दोनों रेखा-छिद्रों की चौड़ाई समान है और प्रकाश-स्रोत इन रेखा-छिद्रों के सापेक्ष सममित रूप से (symmetrically) रखा गया है। केंद्रीय फ्रिंज पर तीव्रता I0 है। यदि एक रेखा-छिद्र को बंद कर दिया जाए तब इस बिन्दु पर तीव्रता होगी

(A) I0
(B) I0/2
(C) I0/4
(D) 4I0

show answer
(C) I0/4

 

यंग के दो रेखा-छिद्रों वाले प्रयोग में महत्तम तीव्रता I0 है। प्रयोग में जिस एकवर्ण प्रकाश का उपयोग किया जाता है, उसका तरंगदैर्घ्य λ है। रेखा-छिद्रों के बीच की दूरी d= 5λ है। एक रेखा-छिद्र के ठीक सामने 10d की दूरी पर स्थित पर्दे पर प्रकाश की तीव्रता होगी।

(A) I0/2
(B) I0
(C) I0/4
(D) 4/3I0

show answer
(A) I0/2

 

फ्रेनल दूरी (Fresnel distance) ZF का मान होता है

(A) a/λ
(B) a2/λ
(C) λ/a
(D) λ/a2

show answer
(B) a2/λ

 

प्रकाश तरंग होती है –

(A) अनुप्रस्थ तरंग
(B) अनुदैर्घ्य तरंग
(C) प्रगामी तरंग
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(A) अनुप्रस्थ तरंग

 

तरंग व्यतिकरण में –

(A) अंतत: ऊर्जा का क्षय होता है
(B) अंततः ऊर्जा का लाभ होता है
(C) ऊर्जा का न तो लाभ होता है न क्षय, केवल ऊर्जा का पुनर्वितरण होता है
(D) कुछ नहीं कहा जा सकता

 

show answer
(C) ऊर्जा का न तो लाभ होता है न क्षय, केवल ऊर्जा का पुनर्वितरण होता है

 

प्रकाश का व्यतिकरण संभव है –

(A) दो स्वतंत्र प्रकाश-स्रोतों द्वारा
(B) केवल एक ही मूल स्रोत से प्राप्त समान तरंगदैर्घ्य के दो तरंगों द्वारा
(C) दो स्वतंत्र तरंगों के भिन्न-भिन्न तरंगदैर्घ्य द्वारा
(D) इनमें से कोई नहीं

 

show answer
(B) केवल एक ही मूल स्रोत से प्राप्त समान तरंगदैर्घ्य के दो तरंगों द्वारा

 

संपोषी व्यतिकरण या रचनात्मक व्यतिकरण में किसी बिन्दु पर प्रकाश तरंगों की कला में अंतर होना चाहिए –

(A) π का सम गुणज
(B) π का विषम गुणज
(C) π का सम तथा विषम गुणज
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(A) π का सम गुणज

 

विनाशी व्यतिकरण में किसी बिन्दु पर प्रकाश तरंगों की कलान्तर होनी चाहिए –

(A) π का सम गुणज
(B) π का विषम गुणज
(C) π का सम तथा विषम गुणज
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(B) π का विषम गुणज

 

रचनात्मक या संपोषी व्यतिकरण के लिए तरंगों का पथान्तर होना चाहिए –

(A) λ का पूर्ण गुणज
(B) λ/2 का पूर्ण गुणज
(C) λ/2 का विषम गुणज
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(A) λ का पूर्ण गुणज

 

विनाशी व्यतिकरण के लिए पथांतर बराबर होना चाहिए –

(A) nλ के
(B) (2n+ 1)λ/2 के
(C) शून्य के
(D) अनंत के

show answer
(B) (2n+ 1)λ/2 के

 

यदि प्रकाश का तरंगदैर्घ्य λ, दो काल सम्बद्ध स्रोतों के बीच की दूरी d तथा पर्दा एवं स्रोत के बीच की दूरी D हो, तो व्यतिकरण की चौड़ाई निम्नलिखित सम्बन्ध से दी जाती है –

(A) λ/Dd
(B) d/λD
(C) λD/d
(D) λd/D

show answer
(C) λD/d

 

दो स्रोतों को कला-सम्बद्ध तब कहा जाता है, जब –

(A) उनके कलान्तर में बराबर परिवर्तन हो रहा है
(B) उनके कलान्तर नियत हैं।
(C) उनके कलान्तर में आवर्ती परिवर्तन होता है
(D) उनके कलान्तर में अनियमित परिवर्तन होता है

show answer
(B) उनके कलान्तर नियत हैं।

 

जब प्रकाश स्रोत तथा पर्दे के बीच की दूरी बढ़ा दी जाती है, तब फ्रिन्ज की चौड़ाई –

(A) बढ़ती है
(B) घटती है
(C) अपरिवर्तित रहती है
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(B) घटती है

 

प्रकाश की अनुप्रस्थ तरंग प्रकृति की पुष्टि करता है –

(A) व्यतिकरण
(B) परावर्तन
(C) ध्रुवण
(D) वर्ण विक्षेपण

show answer
(C) ध्रुवण

 

दो कला-सम्बद्ध एक वर्ण प्रकाश पुंज, जिनकी तीव्रताओं का अनुपात 1 : 4 है, एक-दूसरे पर अध्यारोपित होती है। महत्तम और न्यूनतम तीव्रताओं का अनुपात होगा –

(A) 5 : 1
(B) 5 : 3
(C) 3 : 1
(D) 9 : 1

show answer
(D) 9 : 1

 

व्यतिकरण करते दो प्रकाश-तरंगों की तीव्रताएँ 9 : 4 के अनुपात में है। अधिकतम और न्यूनतम तीव्रताओं का अनुपात है –

(A) 25 : 1
(B) 13 : 5
(C) 5 : 1
(D) 1 : 25

show answer
(A) 25 : 1

 

किसी अवरोध की कोर से प्रकाश का मुड़ना –

(A) विक्षेपण
(B) विवर्तन
(C) अपवर्तन
(D) व्यतिकरण कहलाता है

show answer
(B) विवर्तन

 

तेल की पतली फिल्म या साबुन का पानी रंगीन दिखता है, इसका कारण है प्रकाश का –

(A) परावर्तन
(B) अपवर्तन
(C) वर्ण-विक्षेपण
(D) व्यतिकरण

show answer
(D) व्यतिकरण

 

सीधी कोर से प्राप्त विवर्तन फ्रिन्जें –

(A) समान चौड़ाई की होती है
(B) समान चौड़ाई की नहीं होती है
(C) ज्यामितीय छाया में बनती हैं
(D) इनमें से कोई कथन सही नहीं है

show answer
(B) समान चौड़ाई की नहीं होती है

 

फ्रेनेल वर्ग के विवर्तन में प्रकाश-स्रोत अवरोधक से –

(A) सीमित दूरी पर होती है
(B) सटे होती है
(C) अनन्त दूरी पर होती है
(D) इनमें से कोई कथन सही नहीं है

show answer
(A) सीमित दूरी पर होती है

 

यंग के द्विरेखाछिद्र प्रयोग में स्लिटों के बीच अंतराल को आधा करने पर तथा स्लिट व पर्दे के बीच की दूरी दुगुनी करने पर प्रिज्म की चौड़ाई

(A) वही रहेगी
(B) आधी हो जाएगी
(C) चार गुनी हो जाएगी
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(C) चार गुनी हो जाएगी

 

जब कोई प्रकाश किरण किसी अपवर्तक माध्यम पर ध्रुवण कोण पर आपतित होती है, तब परावर्तित प्रकाश होता है

(A) अंशतः समतल ध्रुवित
(B) पूर्णतः समतल ध्रुवित
(C) इनमें से कोई नहीं
(D) प्रकाशीय तंतु

show answer
(B) पूर्णतः समतल ध्रुवित

 

ब्रूस्टर का नियम है

(A) μ = sin ip
(B) μ = cos ip
(C) μ = tan ip
(D) μ tan2 ip

show answer
(C) μ = tan ip

 

एकवर्णी प्रकाश के दो स्रोत कला-सम्बद्ध तब कहे जाते हैं जब उनकी –

(A) तीव्रता बराबर हो
(B) आयाम बराबर हो
(C) कलांतर नियत
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(C) कलांतर नियत

 

दो कलाबद्ध स्रोतों के कारण प्रकाश के व्यतिकरण में फ्रिन्ज की चौड़ाई है –

(A) तरंग-लम्बाई के समानुपाती
(B) तरंग-लम्बाई के व्युत्क्रमानुपाती
(C) तरंग-लम्बाई के वर्ग के समानुपाती
(D) तरंग-लम्बाई के वर्ग के व्युत्क्रमानुपाती

show answer
(A) तरंग-लम्बाई के समानुपाती

 

द्विक्-प्रिज्म के न्यून कोण के बढ़ाने से फ्रिज की चौड़ाई –

(A) बढ़ेगी
(B) घटेगी
(C) वही रहेगी
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(B) घटेगी

 

फ्रान्हॉफर विवर्तन में प्रकाश के स्रोत रखे जाते हैं अवरोध से

(A) निश्चित दूरी पर
(B) संपर्क में
(C) अनन्त दूरी पर
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(C) अनन्त दूरी पर

 

समतल ध्रुवित प्रकाश में वैद्युत क्षेत्र की तीव्रता सदिश के कंपन होते हैं

(A) सभी दिशाओं में
(B) एक तल में
(C) एक-दूसरे के लम्बवत् दिशा में
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(B) एक तल में

 

साबुन का बुलबुला प्रकाश में रंगीन दिखता है जिसका कारण है –

(A) प्रकाश का ध्रुवण
(B) प्रकाश का प्रकीर्णन
(C) प्रकाश का अपवर्तन
(D) प्रकाश का व्यतिकरण

show answer
(D) प्रकाश का व्यतिकरण

 

दो कला-बद्ध स्रोत आभासी है –

(A) यंग के द्विस्लिट प्रयोग में
(B) लोयाड के दर्पण में
(C) फ्रेजनेल के द्विक प्रिज्म में
(D) उपर्युक्त सभी में

show answer
(C) फ्रेजनेल के द्विक प्रिज्म में

 

हाइजेन के द्वितीयक तरंग के सिद्धांत का व्यवहार होता है –

(A) तरंगाग्र के ज्यामितीय नये स्थान प्राप्त करने में
(B) तरंगों के अध्यारोपण के सिद्धांत की व्याख्या करने में
(C) व्यतिकरण घटना की व्याख्या करने में
(D) ध्रुवण की व्याख्या करने में

show answer
(A) तरंगाग्र के ज्यामितीय नये स्थान प्राप्त करने में

 

प्रकाश किस प्रकार के कंपनों से बनती है ?

(A) ईथर-कण
(B) वायु-कण
(C) विधुत् और चुम्बकीय क्षेत्र
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(C) विधुत् और चुम्बकीय क्षेत्र

 

प्रकाश के तरंग गति-सिद्धान्त के अनुसार, प्रकाश के वर्ण के निर्यायक हैं –

(A) आयाम
(B) तरंग की चाल
(C) आवृत्ति
(D) तरंग-लम्बाई

show answer
(C) आवृत्ति

 

द्वितीयक तरंगिकाओं की धारणा के आविष्कारक हैं –

(A) फ्रेनेल
(B) मैक्सवेल
(C) हाइजेन
(D) न्यूटन

show answer
(C) हाइजेन

 

जब पोलेराइड को घुमाया जाता है तो प्रकाश की तीव्रता नहीं बदलती है। ऐसा तब होता है जब आपतित प्रकाश –

(A) पूर्ण रूपेण समतल ध्रुवित होती है
(B) अंशत: समतल युक्ति होती है
(C) अध्रुवित होती है
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(C) अध्रुवित होती है

 

तरंगों के दो स्रोत कलाबद्ध कहे जाते हैं यदि दोनों –

(A) के कंपन के आयाम समान होते हैं
(B) समान तरंग-लम्बाई की तरंगें उत्पन्न करते हैं
(C) समान वेग की तरंगें उत्पन्न करते हैं
(D) नियत कलान्तर में होते हैं

show answer
(D) नियत कलान्तर में होते हैं

 

ध्रुवणकोण की स्पर्शज्या पदार्थ के अपवर्तनांक के बराबर होती है। यह नियम कहलाता है –

(A) मैलस के नियम
(B) ब्रूस्टर के नियम
(C) ब्रैग के नियम
(D) कॉम्पटन के नियम

show answer
(B) ब्रूस्टर के नियम

 

यंग के द्विस्लिट प्रयोग में संपोषी व्यतिकरण उत्पन्न करने वाली तरंगों के बीच पथान्तर का मान नहीं होता है –

(A) nλ
(B) (n + 1)λ
(C) (2n + 1)λ
(D) (2n + 1)λ/2

show answer
(D) (2n + 1)λ/2

 

यंग के प्रयोग में यदि प्रकाश की तरंग-लम्बाई दुगुना कर दिया जाय तो फ्रिंज की चौड़ाई –

(A) वही रहेगी
(B) दुगुनी हो जाएगी
(C) आधी हो जाएगी
(D) चार गुनी हो जाएगी

show answer
(B) दुगुनी हो जाएगी

 

एक पतले फिल्म के रंग का कारण है

(A) प्रकीर्णन
(B) व्यतिकरण
(C) वर्ण-विक्षेपण
(D) विवर्तन

Answer ⇒

यदि एक पतली पारदर्शक सीट को यंग द्वि-स्लिट के सामने रखा जाय तो फ्रिज की चौड़ाई –

(A) बढ़ेगी
(B) घटेगी
(C) अपरिवर्तित रहेगी
(D) इनमें से कोई नहीं

show answer
(C) अपरिवर्तित रहेगी

 

प्रकाश तंतु संचार निम्न में से किस घटना पर आधारित है ?

(A) पूर्ण आन्तरिक परावर्तन
(B) प्रकीर्णन
(C) परावर्तन
(D) व्यतिकरण

show answer
(A) पूर्ण आन्तरिक परावर्तन

 

दो उन तरंगों के व्यतिकरण से उत्पन्न अधिकतम परिणामी आयाम का मान होगा, जिसे प्रकट किया जाता है

y1 = 4 sin wt andy2 = 3 cos wt

(A) 7
(B) 5
(C) 1
(D) 25

show answer
(B) 5

 

तरंग का कलान्तर ϕ का पथान्तर Δx से सम्बद्ध है –

(A) λ/π ϕ
(B) π/λ ϕ
(C) λ/2π ϕ
(D) 2π/λ ϕ

show answer
(C) λ/2π ϕ
youtube channel
Whatsapp Channel
Telegram channel

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top